क्या 5G Harmful है - 5G के Kya नुकसान Hain

India में 5G की टेस्टिंग शुरू हो चुकी है। लोग ये समझ कर खुश हो रहें होंगे के अब उन्हें Internet Browsing और Downloading में अच्छी Speed मिलेगी लेकिन लोग अभी तक अनजान बने हुए हैं के अभी तक 4G की पूरी स्पीड शायद ही वो उपयोग कर पा रहे होंगे। खैर ये तो आगे देखते हैं। लेकिन क्या आपने सोचा है के Technology जितनी बढ़ती है उतनी ही ज्यादा कुछ न कुछ अपने साथ नुकसान (Harm) भी पैदा करती है। आपने सोचा के क्या 5G Harmful है? अगर नहीं सोचा तो ये Article को पूरा पढ़ने के बाद आप इसके फायदे और नुकसान दोनों के बारे मे समझ जाएंगे।

Is 5G Harmful

4G और 5G Me Kya Antar (Difference) Hai?

आपका वर्तमान 4G LTE Network भी sub-6GHz छतरी के नीचे आता है, क्योंकि इसकी Frequency लगभग 2-3 GHZ के बराबर होती है। इसके विपरीत, जबकि sub-6GHz 5G नेटवर्क आपके रन-ऑफ-द-मिल LTE Connection की तुलना में Fast Download Speed प्रदान करेगा, अंतर रात और दिन का नहीं होगा। इसे 4G LTE+ की तरह समझें, जहां प्लस दिखने पर Internet की Speed बढ़ जाती है, लेकिन कंपनियों द्वारा हमें बताई गई तेज स्पीड फिर भी नहीं मिल पाती।

ये भी पढ़ें-  कोरोना वैक्सीन के लिए रजिस्टर करने का तरीका स्टेप बाय स्टेप्स पढ़ें। 

5G और 4G की गति (Speed) में Kitna Antar है?

भारत में 4G LTE की स्पीड 13Mbps या Jio, Airtel, और Vi (हालांकि वे कभी-कभी अधिक हो सकती है) से कम होती है। अब, चूंकि भारत में 5G अभी भी कुछ महीने दूर है, इसलिए वास्तविक दुनिया का कोई डेटा नहीं है कि हम किस गति का अनुभव करेंगे।

फिर भी, अगर हम America में 5G स्पीड को देखते हैं, तो उपभोक्ताओं को आमतौर पर सब sub-6GHz 5G नेटवर्क पर 50-75Mbps की गति मिलती है; आपको यह जान लेना चाहिए कि अमेरिका में औसत 4G Download Speed 30Mbps के आसपास है, इसलिए भारत की तुलना में लगभग 2x गुना तेज है।

5G and 4G Speed Difference

लेकिन 50-75Mbps अल्ट्रा-फास्ट स्पीड नहीं है जो आप 5G के बारे में सुन रहे हैं, क्या यह है? जैसा कि आपको ज्ञात हो, यह mmWave है जो आपको वास्तविक दुनिया के परीक्षणों में 1Gbps से अधिक की डाउनलोड गति प्रदान करता है। 

लेकिन ये शायद India में न हो पाए क्यूंकि इसके लिए सही Bandwidth और उतने ही ज्यादा शक्तिशाली Network Towers की जरूरत पड़ेगी। और आपको मोबाईल फोन भी 6GHZ सपोर्ट वाला खरीदना पड़ेगा जो 5G को सपोर्ट करता हो। तो हो सकता है की 5G इस्तेमाल करने के बाद वैसे ही नेटवर्क की खराब स्पीड और ओवरॉल Satisfaction न मिल पाए।

ये भी पढ़ें-  ब्लैक फंगस क्या है? लछन और बचने के क्या उपाय हैं?

5G Duniya Ke Kaun Se Countries Me है?

क्या 5G Harmful है:- एक दशक पहले, चौथी पीढ़ी के वायरलेस नेटवर्क, 4G, ने डेटा ट्रांसफर में तेजी लाने और बेहतर और Uninterrupted मोबाइल और इंटरनेट कनेक्टिविटी सुनिश्चित करने के लिए दुनिया को हिला दिया। अब, दुनिया 50 गुना तेजी से 5G के लिए कमर कस रही है जो कि वायरलेस डिजिटल संचार को Uninterrupted के करीब बनाएगी। अमेरिका और दक्षिण कोरिया ने पहले ही परीक्षण (Test) के आधार पर नेटवर्क को चालू कर दिया है।

मई 2018 में, पांच नॉर्डिक देशों- स्वीडन, नॉर्वे, डेनमार्क, फिनलैंड और आइसलैंड ने दुनिया की पहली Interconnected 5G क्षेत्र बनाने की अपनी योजना की घोषणा की। India, जो पहले के नेटवर्क के implementation में पिछड़ गया था, उसके बाद भारत ने 5G शुरू करने के लिए उच्च स्तरीय मंच स्थापित किया है और 2020 तक परीक्षण शुरू करने की योजना बनाई लेकिन ये Coronavirus की वजह इसकी Testing लेट हो गई और ये अब साल 2021 में संभव हो सका।

यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (European Space Agency), की प्रमुख रीता रिनाल्डो कहती हैं, 

नई तकनीक हमें हर जगह और हर समय, और विभिन्न तकनीकों (Different Techniques) और नेटवर्क के अंतर-काम करने में सक्षम बनाएगी।" "5G Networks में उपग्रहों का एकीकरण (Integration) ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए कृषि, स्वास्थ्य और आपातकालीन प्रतिक्रिया जैसे नए अनुप्रयोगों के लिए बेहतर साबित होगा।

लेकिन शायद इसकी संभावनाएं एक कीमत पर आएंगी, कम से कम दुनिया भर के कई स्वास्थ्य विशेषज्ञों (Health Experts) का डर ये है के, 5G Health और Environment के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकती है। आइए अब इससे जुड़े हुए खतरों पर नजर डालते हैं। alert-warning


Is 5G Harmful?

क्या 5G Harmful है:- 2011 में, WHO'S International Agency for Research on Cancer (IARC) ने कई अध्ययनों (Research) की समीक्षा (Review) की जिसमें मनुष्यों के साथ-साथ चूहों पर भी RF-EMF विकिरणों (30 किलोहर्ट्ज़ से 300 गीगाहर्ट्ज़ तक) की एक विस्तृत श्रृंखला के प्रभावों (Effects) का विस्तार किया गया और निष्कर्ष (Conclusion) निकाला गया कि इससे निकले हुए विकिरण (Radiation) "संभवतः मनुष्यों के लिए कैंसर का कारण (Carcinogenic) हो सकते हैं।

Is 5G Harmful

2018 में, अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एन्वायर्नमेंटल हेल्थ साइंसेज (National Institute of Environmental Health Sciences) के नेशनल टॉक्सिकोलॉजी प्रोग्राम (NTP) द्वारा प्रकाशित एक पीयर रिव्यू रिपोर्ट में 3G और 4G नेटवर्क द्वारा उपयोग किए जाने वाले 900 मेगा हर्ट्ज के आरएफ-ईएमएफ पाए गए, जिससे दिल के दुर्भावनापूर्ण स्क्वैनोमास (कैंसर) के लक्षण सामने आए।

ये भी पढ़ें-   Type of Masks for Covid 19 (Corona) Protection हिन्दी में पढ़ें

चूहों (Rats) पर किए गए इसे Research मे पाया गया के इसके द्वारा Nerve tissue को damage किया गया। इस रिपोर्ट में यह भी पाया गया कि चूहों में ग्लियोमा (Brain Glioma) (मस्तिष्क में घातक ट्यूमर) (Tumors) का कारण विकिरण (Electromagnetic Radiation) था।

कैंसर एकमात्र ऐसी बीमारी (Disease) नहीं है जो इस तरह के विकिरण का कारण बन सकती है। वैज्ञानिकों ने अब तक 5G को कम से कम 20 बीमारियों से जोड़ा है, जिनमें हृदय रोग (Heart Failure), Skin Disease, टाइप -2 मधुमेह (Diabetes) और मानसिक अशांति जैसे अवसाद, चिंता और आत्महत्या की प्रवृत्ति शामिल हैं।

सभी कृत्रिम विद्युत चुम्बकीय विकिरण (Artificial electromagnetic radiation) खराब और हानिकारक होते हैं क्योंकि हमारे जैविक सिस्टम (Biological systems) इसके अनुकूल नहीं हैं। alert-error

पॉल हेरॉक्स, कनाडा में मैकगिल यूनिवर्सिटी हेल्थ सेंटर में विष विज्ञान और इलेक्ट्रोमैग्नेटिज़्म के स्वास्थ्य प्रभावों के प्रोफेसर कहते हैं। "सबूत वहाँ रहे हैं सबको पता है, लेकिन दशकों तक अनदेखा किया गया। 5G Cellphone के उपयोग को बढ़ावा देगा, और इसलिए फोन और बेस स्टेशनों से उच्च आवृत्ति (high frequency) मानव शरीर के एक छोटे से हिस्से में विकिरण को केंद्रित (Focused) करेगी" वह कहते हैं, 

बच्चों को इसके प्रभावों के लिए विशेष रूप से असुरक्षित है। 5G की उच्च आवृत्तियाँ मानव शरीर में बहुत गहराई तक प्रवेश कर जाएंगी, क्योंकि ऐसी तकनीक (Technique) जो प्रौद्योगिकी (Technologies) के लिए अद्वितीय है, जो अधिक से अधिक तीव्रता और बेहतर पहुंच के साथ Frequency बनाने के लिए कई एंटेना (Antennas) से विद्युत चुम्बकीय संकेत (Emfs) लाती है।

सितंबर 2017 में, भारत सहित 36 देशों के 180 से अधिक शोधकर्ताओं ने यूरोपीय संघ से मानव स्वास्थ्य पर 5 जी के प्रभाव का आकलन करने के लिए एक स्वतंत्र कार्य बल स्थापित करने का आग्रह किया था। 2015 में, अमेरिकी वैज्ञानिकों ने संयुक्त राष्ट्र के महासचिव, डब्ल्यूएचओ और संयुक्त राष्ट्र के सभी सदस्य देशों से अपील की कि इसके 5 जी प्रभावों का आकलन करने के बाद ही 5G की अनुमति दिया जाए।

$ads={2}

लेकिन ये अपील का कुछ फायदा नहीं हुआ। 19 मार्च को, यूरोप की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था जर्मनी ने बॉन में 5 जी बैंडविड्थ स्पेक्ट्रम (Spectrum) की नीलामी शुरू की। अकेले उत्तरी अमेरिकी क्षेत्र में 20,000 5G उपग्रह (Satellites) लॉन्च करने की तैयारी है। उद्योग (Industry) 5G के हानिकारक प्रभावों को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं है। 

गैर-आयनिक विकिरण (Nonionizing Radiation) विकिरण पर अंतर्राष्ट्रीय आयोग, एक जर्मनी-आधारित गैर-लाभकारी जो उपकरणों में विद्युत चुम्बकीय क्षेत्रों की एक्सपोज़र सीमा निर्धारित करता है, का कहना है कि उच्च आवृत्ति रेडियो तरंगों के कारण मानव स्वास्थ्य के लिए कोई बड़े खतरे नहीं हैं।

आईआईटी-कानपुर के निदेशक और भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (Telecom Regulatory Authority of India) के अंशकालिक सदस्य अभय करंदीकर कहते हैं, 

यह अभी तक ज्ञात नहीं है कि विकिरण Humans पर प्रतिकूल स्वास्थ्य प्रभाव पैदा कर सकते हैं, क्योंकि गैर-आयनीकरण विकिरण (Non Ionizing Radiation) की भौतिकी यह व्याख्या नहीं कर सकती है।

कुछ वैज्ञानिक (Scientists) कम हानिकारक फाइबर ऑप्टिक केबल (Fiber optic cable) के आधार पर नेटवर्क डिजाइन करने का सुझाव देते हैं। एक वैज्ञानिक हर्क्स कहते हैं। 

ये Fiber optic cables 5G से 20,000,000 गुना तेज हो सकते हैं, हमें वायर्ड कनेक्शनों को इस्तेमाल (Use) करना चाहिए जो प्रति सेकंड 10 जीबी (गीगाबाइट) की गति दे सकते है। सबसे महत्वपूर्ण बात, हमें मोबाइल फोन (Mobile Phone) को पहचानना चाहिए कि वे क्या हैं: एक विकिरण उपकरण (A Radiation Device)। उपयोगकर्ता (Users) जोखिम (Risk) को कम करने के लिए और उन्हें संयम और सावधानी से उपयोग किया जाना चाहिए।

5G को 600 मेगाहर्ट्ज और 86 गीगाहर्ट्ज के बीच आरएफ-ईएमएफ विकिरण (RF-EMF Radiation) की आवश्यकता होती है, जो अध्ययनों द्वारा विश्लेषण की गई सीमा के भीतर अच्छी तरह से आते हैं। और इससे कहीं न कहीं साबित होता है के Safety के हिसाब से 5G Harmful है। alert-info


Conclusion & Suggestion About 5G Harmful Effects

ऊपर दिए हुए तथ्य को पढ़ कर आप समझ ही गए होंगे के इस तरह का विकिरण पैदा करने वाले Radiofrequency का impacts सीधा हमारे स्वास्थ्य और वातावरण पर होता है, लेकिन सारे लोग (People) इसका उपयोग करने को मजबूर हैं मोबाईल फोन जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है इसके बिना जीवन अधूरा सा लगता है लेकिन हमे स्वास्थ्य से भी समझौता नहीं करना है इस Article, क्या 5G harmful है? को लिखने का मकसद आपको इसके नुकसान के बारे मे बताना था।

अगर Government इसपर कुछ खास ध्यान नहीं दे पा रही है तो हमे ही चाहिए के अपने शरीर से मोबाईल फोन के Ionizing या Non ionizing Radiation को दूर रखा जाये, खास कर सोते समय Mobile को अपने शरीर से दूरी पर रख कर सोएं, फोन पर बात करते समय Earphone का उपयोग करें। और हो सके तो 5G के Harmful इफेक्ट से बचने के लिए 5G Mobile न लेकर आप्टिक फाइबर केबल कनेक्शन का उपयोग करें।

Post a Comment

If you have any questions and doubts, Please let me know.

Previous Post Next Post