Top 10 Duties of Safety Engineer | सेफ़्टी इंजीनियर की ड्यूटी

Duties of Safety Engineer:- जैसे हर क्षेत्र में Engineer की अलग अलग Duties and Responsibilities होती है वैसे ही Safety के Department में Safety Engineer का एक महत्वपूर्ण रोल होता है। जो लोग इंजीनियरिंग के क्षेत्र में हैं, उन्हें Science के कई पहलुओं, विशेषकर Technical Aspects का व्यापक ज्ञान होता है। Safety Engineering को सिस्टम इंजीनियरिंग में Science के Knowledge को लागू करने और Workplace में दुर्घटनाओं (Accidents) को रोकने का क्षेत्र माना जाता है।

जैसा के आप जानते हैं की Safety को Workplace पर Effective होना काफी जरूरी है ताकि सब की सेफ़्टी को यकीनी बनाया जा सके। अगर सेफ़्टी की बात हो रही है तो हमारे दिमाग में सिर्फ लोगों की सेफ़्टी और उनके Behavior या PPE का ही ध्यान आता है लेकिन ऐसा नहीं है। इस लेख में Top 10 Duties of Safety Engineer के बारे में बताएंगे।

Duties of Safety Engineer

लोगों की सेफ़्टी तो बेहद जरूरी तो है ही इसके साथ साथ हमें Workplace के Equipment, Manufacturing Units, Process Plants, Structure Designs, Chemical Reactions, Site Awareness, Environment Issues आदि का भी ध्यान रखना जरूरी होता है, क्यूंकी इनसब से पैदा हुए हज़ार्डस से नुकसान काफी ज्यादा होता है। इसीलिए इनके किसी प्रकार के खतरे से आस पास के वस्तुओं और लोगों की ज़िंदगियों को बचाना जरूरी है। इसकी देखरेख के लिए वैसे Specific site पर एक Engineering Background Personal की जरूरत होती है जिसे Safety Engineer या HSE Engineer कहते हैं। इस लेख में हम आपको Duties of Safety Engineer/HSE Engineer के बारे में बताएंगे।


Safety Engineering क्या है?

Duties of Safety Engineer के बारे में जानने से पहले सेफ़्टी इंजीनियरिंग के बारे में जान लेना जरूरी है। Safety Engineering की अलग से पढ़ाई नहीं होती है। आम तौर पर जिस क्षेत्र में कंपनी का काम होता है उसी से रिलेटेड या Degree लिए हुए Engineer को Safety Engineer की पोज़िशन के लिए सही समझा जाता है। जैसे अगर कोई कंपनी Petrochemical की Industry में कार्यरत है तो Chemical Engineering की डिग्री किए हुए Candidate को योग्य समझा जाता है।

Safety Engineering में कुछ विशेष क्षेत्र जैसे- Industrial Health & Safety, Fire Safety & Emergency Response, Law Enforcement, General Industry, Hygiene & Contamination Control, Toxicology, Ergonomics, Accident investigation and analysis और Environment Safety शामिल हैं।

Safety Engineer या HSE Engineer वैसे इंडस्ट्री में कार्यरत होते हैं जिनमे Technical Analysis और Science Research से रेलेटेड काम ज्यादा हो सकते हैं। क्यूंकी इन्हें इंडस्ट्री के टेक्निकल सेफ़्टी Issue और Problems को समझ कर उनका निदान अपनी Engineering Background के बेस के हिसाब से करना होता है।


Safety Engineer और Safety Officer की Duty में अंतर 

Duties of Safety Engineer के टॉपिक से पहले बहुत सारे लोग Safety Engineer और Safety Officer में क्या अंतर होता है उसके बारे में कन्फ्यूज़ हो रहे होंगे उसके बारे में भी जान लेना जरूरी है। आइए Different Between Safety Engineer and Safety Officer के बारे में थोड़ा जान लेते हैं।

Safety Officer सभी इंडस्ट्री में होते हैं इन्हें हर साइट पर होना बेहद जरूरी होता हैं। इनकी ड्यूटी और जिम्मेदारी को मैंने पिछले आर्टिकल में बता दिया है आप इसे पढ़ सकते हैं।

Safety Officer या HSE Officer की ड्यूटी में Monitoring और Implementation का अहम रोल होता है। जिसमे Workers Behaviors,  unsafe acts & Conditions की पहचान और उनको सही करवाना यानि Corrective action आदि शामिल है। alert-info

Safety Engineer या HSE Engineer को Technical Safety Analysis, Process Research और Documentation से रेलेटेड काम ज्यादा करने होते हैं। क्यूंकी इन्हें इंडस्ट्री के टेक्निकल सेफ़्टी Issue और Problems को समझ कर उनका Solution अपनी Engineering Background के ज्ञान के हिसाब से करना होता है। alert-info

वहीं Safety Engineer या HSE Engineer सब कंपनी में अपॉइन्ट नहीं किए जाते हैं इनकी जरूरत सिर्फ उन्ही कंपनी को होती है जो कंपनी एक Technical Point of View से ऐसे प्रोसेस या इंडस्ट्री से जुड़ी होती है जिन्में Technical पेचीदगी ज्यादा होती है और उनसे जुड़े Process और Technical Hazards ज्यादा होते हैं। और उन्हे दूर करने या Eliminate करने के लिए Engineering Background के Personnel की जरूरत होती है।

आप Different Between Safety Engineer and Safety Officer को समझ गए होंगे। अब आपको हम Top 10 Duties of Safety Engineer के बारे में बता रहें हैं किसे पढकर आपको इसके बारे में पूरी जानकारी हो जाएगी।


ये भी पढ़ें - Top 10 Duties & Responsibilities of Safety Officer


Duties of Safety Engineer / Roles & Responsibilities of Safety Engineer

Duties of Safety Engineer:- Safety Engineer के पास कई तरह की Duties होती हैं। जिन्हें उन्हें करने की आवश्यकता होती है। इनमें से कुछ Duties में Hazardous activity and substances की खोज करना, खतरे को खत्म करने के लिए रणनीति बनाना, Workplace के लिए सभी Safety Rules को लागू करना, और सेफ़्टी में सहायक उपकरणों को सही से डिजाइन करना शामिल हैं।

10 Duties of safety engineer

Safety Factors के बारे में चिंता करने के अलावा, Safety Engineers को अन्य Professionals के साथ मिलकर भी काम करना होता और उन्हें विभिन्न प्रकार के सेफ़्टी Issues के बारे में अड्वाइस भी करना होता है।

नीचे कुछ Important Duties of Safety Engineer के बारे में बताया गया है और इसे लिस्ट किया गया है आप इसे पढ़ कर Safety Engineer की Duties and Responsibilities और Roles को आसानी से समझ सकते हैं।


Top 10 Duties of Safety Engineer-

  • किसी भी Manufacturing साइट या Plant के सभी Equipment, Process के बारे में स्टडी करना और उनसे जुड़े हज़ार्डस को पहचान कर उसे हटाने का प्रयत्न करना।

  • Plant के किसी भी लेआउट की डिजाइन को सही से चेक करना और अगर Safety point of view से किसी Structure में बदलाव करने के तरीके को सुझाव देना।

  • Plant के Process Safety की स्टडी (HAZOP) करना भी Safety Engineer की Duty में शामिल होता है। जिसके करने से Process Safety में जो कमियाँ होती है उसके बारे में पता हो जाता है।
HAZOP Example:- सभी प्रोसेस प्लांट के साइट पर हाई Pressurized प्रोसेस वेसल होता है जिसमें एक प्रेशर रीलीफ Valve लगा होता है, इस वाल्व का काम है की जैसे ही वेसल में सेट लिमिट से ज्यादा प्रेशर होता है तो ये वाल्व अपने आप ही वेसल के प्रेशर को रिलीज कर देता है और वेसेल को फटने या नुकसान होने से बचाता है। ये एक टेक्निकल सेफ़्टी फीचर है। alert-success

Hazop में यह देखा जाता है की जो प्रेशर वाल्व लगा हुआ है वो सही सेट लिमिट पर काम कर रहा है या नहीं, इसमे समय के साथ कुछ प्रॉब्लेम तो नहीं आई या इसके फंक्शन में कोई चेंज की जरूरत तो नहीं है। या वेसल की समय के साथ प्रेशर को सहने की क्षमता तो कम नहीं हुई। alert-success

ये स्टडी काफी महत्वपूर्ण होती है क्यूंकी इसमे एक्सीडेंट से जुड़े हुए रिस्क का आउट्कम काफी हाई होता है। प्रोसेस इक्विप्मन्ट failure से हुए एक्सीडेंट की वजह से जो नुकसान होता है वो काफी बड़ी होता है। जैसे आपने भोपाल गैस ट्रैजडी के बारे में सुना होगा। इस तरह की स्टडी में इंजीनियरिंग टेक्निकल बैकग्राउंड की जरूरत होती है। alert-success

  • Safety Engineer अपना अधिकांश समय साइट पर Safety Condition की Review और Inspection करने और पिछले दुर्घटनाओं की जांच के विश्लेषण में लगाते हैं, फिर ऑफिस में डेटा का विश्लेषण करके रिपोर्ट बनाना होता है।

  • Workplace को खतरों से मुक्त रखने में शामिल Engineering समस्याओं के ज्ञान के अलावा, Safety Engineers को Management Methods, Safety Laws और Industrial Psychology का अच्छा ज्ञान होना चाहिए और उन्हें Technical Safety Problems को हल करने में भी अच्छा होना चाहिए।

  • Safety Engineer को Recycling, Waste Disposals और Pollution Control के बारे में साइट पर विभिन्न प्रकार के Method का सुझाव देना और इसको फॉलो करना ड्यूटी में शामिल है।

  • Cost Effective और Safe work production process विकसित करने के लिए Equipment Designers और Manufactures की हेल्प करना और अड्वाइस करना भी Safety Engineer की ड्यूटी में शामिल होता है।

  • Safety Engineer संभावित खतरों की पहचान करने और संभावित दुर्घटनाओं को Address करने के लिए Safety Audit को Lead करते हैं। वे इन Audit के द्वारा सामने आए मुद्दों को हल करने के लिए काम करते हैं और Managers को सपोर्ट करते हैं।

  • Site पर Safety Awareness को बढ़ावा देना और वर्कर्स को साइट या प्रोसेस से जुड़े hazards के बारे में बताने की विधि तैयार करना साथ साथ किस काम के लिए किस तरह की ट्रैनिंग की जरूरत है इसका भी ध्यान रखना Safety Engineer की ड्यूटी है।

  • Safety Policy और Program को Develop करने और Objective सेट करने में Management की हेल्प करना और किसी भी प्रकार के Highly Critical Wok से जुड़े हज़ार्डस और रिस्क की पहचान करके Safe Work Procedure को बनाने में मुख्य रोल निभाना Safety Engineer की Duty में शामिल है।
सेफ़्टी ऑफिसर का काम Safety Policy और Objective को फॉलो अप और Implement करवाना है और सेफ़्टी इंजीनियर को इसे डिवेलप और इम्प्रूव करने में Management की हेल्प करना है। alert-error

  • रूरत होने पर Accident Investigations की टीम में शामिल होना और इसमे जुड़े हुए Root Cause की पहचान करना, Engineering के Controls और Risk Assessment को रिव्यू करना और प्रभावित जरूरी बदलाव करने को अड्वाइस करना ताकि फ्यूचर में दुर्घटना को रोका जा सके।

Note:- Safety Engineer की Duties and Responsibilities में उपरोक्त दिए गए Roles के अलावा कंपनी के हिसाब से दूसरी Additional ड्यूटी भी हो सकती है लेकिन ऊपर बताए गए ड्यूटी ही मेन ड्यूटी है जिसे एक सेफ़्टी इंजीनियर के द्वारा किया जाता है। आपको किसी भी कंपनी में ज्वाइन करने से पहले वहाँ की ड्यूटी और जिम्मेदारी के बारे में कन्फर्म जरुर करना चाहिए। alert-warning


ये भी पढ़ें-    All Types of Inspection Checklist free Download


ये आर्टिकल Duties of Safety Engineer या Duties and Responsibilities of HSE Engineer का ये स्पेशल लेख आपको कैसा लगा हमें कमेन्ट करके जरूर बताएं। आपके सुझाव और आपके प्रश्न का हम स्वागत करते हैं। 


Post a Comment

If you have any questions and doubts, Please let me know.

Previous Post Next Post